KAMRUNAG LAKE

KAMRUNAG LAKE

कमरूनाग झील : झील में अरबों का खजाना      

Kamru nag lake in hindi , kamrunag lake treak झील में अरबों का खजाना ?

जी हाँ एक एसी झील जिसमे छुपा है अरबों का खजाना !

हिमाचल के जिला मंडी में स्थित कमरुनाग मन्दिर की यह झील अरबों का खजाना अपने अंदर समेटे हुए है।

जो भी मन्दिर में दान दक्षिणा दी जाती है वह सारी मन्दिर के सरोवर (झील) में डाल दी जाती है ।

मन्दिर का इतिहास महाभारत काल का है। मान्यता है कि इस मन्दिर की स्थापना पांडवो ने की थी।

कमरुनाग का यह मन्दिर लगभग 3300 मीटर की ऊंचाई पर रोहांडा नामक स्थान पर स्थित है। मन्दिर के चारों ओर देवदार के घने जंगल है।

इन्ही घने जंगलो में कमरुनाग देवता का मन्दिर तथा झील स्थित है।

इस देवता को बड़ा देव के नाम से भी जाना जाता है।

मान्यता है कि देवता लोगों की मोनोकमना पूर्ण करते है।

मनोकामना पूर्ण होने पर लोग सोना चांदी के गहने तथा सिक्के इस सरोवर में डालते है।

यह परम्परा महाभारत काल से चली आ रही है।

इसी तहर यह झील अरबों का खजाना अपने अंदर समेटे हुए है।

कोई भी इस खजाने को निकाल नहीं सकता।

कहते हैं कि इच्छाधारी नाग इस खजाने की रक्षा करते हैं।

इस क्षेत्र में ज्यादातर सांप की तरह दिखने वाले छोटे-छोटे पौधे भी मिलते हैं।

हर वर्ष जून महीने में पड़ने वाली सक्रांति को यहाँ एक मेले का आयोजन किया जाता है।

जिस में देश भर से श्रदालु माथा टेकने पहुंचते है।

मन्दिर रोहांडा नामक स्थान से लगभग 6 कि० मी० चढाई दार रास्ता है और पैदल ही तय करना पड़ता है।

जिस में 3 से 4 घंटे लग जाते है । रोहांडा सुंदरनगर से लगभग 35 कि० मी० और मंडी से लगभग 45 कि० मी० है।

प्रकृति प्रेमियो के लिए कमरुनाग झील की यात्रा स्वर्ग से कम नहीं है।

इस घाटी के चारों ओर की सुंदरता लोगों को अपनी ओर आकर्षित करती है।

ट्रैकिंग का शौक रखने वाले लोगों को भी यह घाटी अपनी ओर आकर्षित करती है।

यहाँ मौसम लगभग ठंडा रहता है।

यहाँ आने का सबसे अच्छा समय अप्रैल से जून के बीच का है।


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *