BHAKRA DAM

BHAKRA DAM

भाखड़ा नंगल बांध-Bhakra Nangal Dam Himachal Pradesh

भाखड़ा नंगल बांध हिमाचल प्रदेश Information in Hindi

         Bhakra Dam in Hindi दोस्तों आज हम बात करेगे हिमाचल की सीमा पर बने भारत के दूसरे सबसे बड़े बांध Bhakra Nangal Dam की । भाखड़ा नंगल बांध हिमाचल की सीमा में सतलुज नदी पर बना भारत का दूसरा सबसे बड़ा बांध है । यह बांध ऊँचे गुरुत्वाकर्षण के कारण विश्व के अन्य बंधो में एक अलग पहचान बनाये हुए है । इसका मुखय उद्देश्य बिजली उत्पादन तथा सिंचाई को पूरा करना है । दोस्तों इस पोस्ट के माध्यम से हम भाखड़ा नंगल बांध के निर्माण से ले कर अब तक की कहानी के बारे में जानेगे और जानेगे Interesting Facts About Bhakara Nangal Dam.

भाखड़ा नंगल डैम का निर्माण

                 भाखड़ा नंगल बांध हिमाचल तथा पंजाब की सीमा पर बना हुआ है । भाखड़ा बांध और नंगल बांध एक ही परियोजना के दो अलग अलग हिस्से हैं । भाखड़ा डैम  हिमाचल प्रदेश  के बिलासपुर जिला में सतलुज नदी पर भाखड़ा गाव में  बना है । जब की नंगल डैम  पंजाब के जिला  होशियारपुर के नंगल नामक स्थान पर बना हुआ है । भाखड़ा डैम ऊंचाई पर स्थित है । ऊंचाई पर स्थित  होने के कारण  पानी के बहाव को नियन्त्रण करने के लिए नंगल डैम का निर्माण किया गया है ।

                 इस परियोजना का निर्माण कार्य 1948 में शुरू हुआ।  नवम्बर 1955 को भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरु ने इस परियोजना की नीवं में कंक्रीट डाल कर इस की शुरुआत की । अक्टूबर 1963 तक इस परियोजना का निर्माण  कार्य  पूर्ण कर लिया गया। 22 अक्टूबर 1963 को तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरु ने इस का उद्घाटन किया।   सन 1970 में इस परियोजना ने पूर्ण रूप से  काम करना शुरू कर दिया। यह बांध टिहरी बांध के बाद भारत का दूसरा सबसे बड़ा बांध है ।

भाखड़ा नंगल डैम का उद्देश्य

भाखड़ा नंगल डैम परियोजना एक बहुउदेशीय परियोजना है जिसका मुखय उदेश्य सिंचाई तथा बिजली उत्पादन करना है। यह परियोजना हिमाचल , पंजाब, हरियाणा तथा राजस्थान तक फैली हुई है । जिस कारण  इस परियोजना से  40 हजार वर्ग किलोमीटर की भूमि में सिंचाई की जाती  है।

इस बांध का दूसरा मुखय उद्देश्य बिजली उत्पादन करना है । यह भारत की सबसे बड़ी  जल परियोजनाओं में से एक है । यह बांध 1325 मेगावाट बिजली उत्पादन करता है । जिस से हिमाचल, पंजाब, हरियाणा,  दिल्ली, राजस्थान में बिजली की आपूर्ति की जाती है।

भाखड़ा नंगल बांध प्रबंधन

भाखड़ा नंगल बांध परियोजना का संचालन एवं रखरखाव भाखड़ा ब्यास मेनेजमेंट बोर्ड  ( BBMB ) द्वारा किया जाता है । जिसका मुख्यालय चंड़ीगढ़ में बनाया गया है ।  इस परियोजना में हजारों  की संख्या में  कर्मचारी कार्य करते हैं । इस परियोजना को स्वचारू  रूप से चलाने की  व्यस्था इन्ही कर्मचारीयों द्वारा की जाती है ।

यह परियोजना चार राज्यों पंजाब  , हिमाचल , हरियाणा , राजस्थान की सांझी परियोजना है। जिस कारण इस परियोजना में चारों राज्यों का हिस्सा है ।

कैसे पहुंचे How to Reach?

भाखड़ा नंगल बांध पहुचने का सब से सुगम और सरल मार्ग सड़क द्वारा है । आप अपनी गाड़ी या बस में सड़क मार्ग द्वारा बांध   देखने  आसानी से पहुच सकते हैं । नंगल से भाखड़ा की दूरी लगभग 20 कि० मी० है । नंगल स्टेशन तक आप ट्रेन द्वारा भी पहुच सकते हैं । नंगल से भाखड़ा के लिए बस सेवा निरंतर चलती रहती है ।

रोचक तथ्य Interesting Facts About Dam

  1. यह बांध टिहरी बांध के बाद भारत का दूसरा सबसे बड़ा बांध है।
  2. इस  बांध का निर्माण सन 1948 में शुरू हुआ और सन 1963 में  पूर्ण हुआ।  1970 में इस बांध ने पूर्ण रूप से काम करना शुरू किया ।
  3. इस बांध की ऊंचाई 255 मी० लगभग  740 फिट के करीब है । इस की दीवार की 9 मीटर लगभग 30 फिट चौड़ी है ।
  4. बांध के पीछे बनी झील गोविन्द सागर झील का नाम दिया गया है ।  इस झील  का नाम सिखों के दसवें गुरु गोविन्द सिंह का नाम पर रखा गया है ।
  5. इस परियोजना को पूर्ण करने में उस समय लगभग 250 करोड़ रुपये का खर्च आया था ।
  6. यह बांध भूकंपीय क्षेत्र में होने के कारण दुनिया का सबसे ऊँचा गुरुत्व वाला बांध है ।

दोस्तों भाखड़ा नंगल डैम के बारे में हमारे  द्वारा दी गई जानकारी आप को कैसी लगी ? कृपया कमेंट कर जरुर बतायें ।  अपने दोस्तों के साथ इस जानकारी को साँझा जरुर करे ।  इससे सम्बंधित और जानकारी अगर आप को चाहिए तो जरुर लिखे ।

 


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *