हिमाचल प्रदेश की सीमाऐं पूर्व में चाइना-तिब्बत के साथ पश्चिम में पंजाब और हरयाणा तथा जम्मू-कश्मीर के साथ लगती हुई है। पूरा प्रदेश ऊँचे पहाड़ो के बीच में बसा हुआ है। प्रदेश का 65 प्रतिशत हिस्सा घने जंगलो से घीरा हुआ है । प्रदेश में रेल , सड़क तथा हवाई मार्ग के माध्यम से पहुचा जा सकता है। प्रदेश पूरा साल पर्यटन के लिए खुला रहता है । बरसात (July-August) के मौसम को छोड़ कर आप प्रदेश में कभी भी घूमने आ सकते हैं।

रेल मार्ग

प्रदेश में तीन मुखय रेल मार्ग हैं जिन में

  1. पठानकोट-जोगिन्दर नगर रेल लाइन

उत्तर में पंजाब के PATHANKOT Railway Station से नैरो गेज ट्रेन द्वारा काँगड़ा वैली तथा जोगिन्दर नगर तक पहुचा जा सकता है ।

2. कालका-शिमला रेल लाइन

हरयाणा बॉर्डर के साथ लगते KALKA Railway Station से हिमाचल में आसानी से पहुचा जा सकता है। यहाँ से शिमला के लिए विशेष हिस्टोरिकल ट्रेन उपलब्ध है। शिमला कालका रेलवे मार्ग अपने आप में UNESCO WORLD Heritage Site है। शिमला-कालका रेलवे मार्ग का सफ़र अपने आप में बेहद खूबसूरत एवम यादगार सफ़र है। यह रेलवे मार्ग ब्रिटश काल की इंजीनियरिंग का एक खूबसूरत नगीना है।

3. उना-हिमाचल रेल लाइन

उना हिमाचल रेल मार्ग पंजाब के KIRTPUR Railway Station को हिमाचल को जोड़ता है।

वायु मार्ग

प्रदेश में तीन मुखय एअरपोर्ट हैं। जिस से आसानी से प्रदेश में पहुचा जा सकता है।

  1. KULU Airport, Manali.
  2. GAGGAL Airport, Dharamsala (Kangra).
  3. JUBBALHATTI Airport, Shimla.

सड़क मार्ग

प्रदेश में सड़क मार्ग द्वारा आसानी से पहूँचा जा सकता है । देल्ली , चंड़ीगढ़, हरयाणा आदि बड़े शहरो से निरंतर प्रदेश के लिए बस तथा टेक्सी सेवा उपलब्ध रहती है ।